Aankhe shayari, Band Ankhon Se Us Ko Jaata

रुख़्सत करने के आदाब निभाने ही थे
बंद आँखों से उस को जाता देख लिया है