Aankhe Shayari, Ek Suraj Tha K Taron Ke Gharane Se Utha

एक सूरज था कि तारों के घराने से उठा
आँख हैरान है क्या शख़्स ज़माने से उठा