Aankhe Shayari, Jin Ashkon Ki Phiki Lao Ko Hum Bekar Samajhte The

जिन अश्कों की फीकी लौ को हम बेकार समझते थे
उन अश्कों से कितना रौशन इक तारीक मकान हुआ