Aankhe Shayri, Pass Jab Tak Wo Rahe Dard Thama Rahta Hai

पास जब तक वो रहे दर्द थमा रहता है
फैलता जाता है फिर आँख के काजल की तरह