Aankhen Shayari, Sirf Hathon Ko Na Dekho Kabhi Aankhen Bhi Parho

सिर्फ़ हाथों को न देखो कभी आँखें भी पढ़ो
कुछ सवाली बड़े ख़ुद्दार हुआ करते हैं