Aankhen Shayari, Tu Badalta Hai Be-Sakhta Meri Ankhen

तू बदलता है तो बे-साख़्ता मेरी आँखें
अपने हाथों की लकीरों से उलझ जाती हैं