Aankhon Pe Shayari, Yuun Dekhte Rahna Use Achaa Nahi ‘Mohsin’

यूँ देखते रहना उसे अच्छा नहीं ‘मोहसिन’
वो काँच का पैकर है तो पत्थर तिरी आँखें