Uthti nahi hai aankh kisi aur ki taraf- aankhe shayari, aankhen best shayari

Uthti nahi hai aankh kisi aur ki taraf
Beautiful Eyes Shayari in Hindi

उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ,
पाबन्द कर गयी है किसी की नजर मुझे,
ईमान की तो ये है कि ईमान अब कहाँ,
काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे।

|

|

Latest Quotes and Shayari on this page –

Ek Umar Beet Chali Hai-love shayari

Show Us Some Love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *