धुंए के ये आंसू
जलाता है मन मेरा
चाहे बना लो दरिया
जो डूब जाता है मन मेरा