चलो आज फिर कुछ तूफानी करते हैं
दिलों में उनकी, इंसानियत की आग भरते हैं।