Mohabbat Shayari, Agar Mohabbat ki Had

अगर मोहब्बत की हद नहीं कोई,
तो दर्द का हिसाब क्यूँ रखूं।