वही चुड़ियों की थी किरचियां,
वही था घरौंदा बना हुआ.
मेरा नाम था जहां रेत पर,
तेरी उंगलियों से लिखा हुआ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *