Bewafa Shayarish, Jab wo Bewafa hue

Bewafa Shayarish, Jab wo Bewafa hue

आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए

महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए, 

करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो,

पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए