Tu jal Rahi gair ki bahon me, Bewafa Shayari,

तू जल रही गैर की बाहों में लौ सी
मैं पिघल रहा खुद में ही मोम सा…….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *