Dil Shayarii, Badan Ke Karb Ko Wo Bhi Samajh Na Payega

बदन के कर्ब को वो भी समझ न पाएगा
मैं दिल में रोऊँगी आँखों में मुस्कुराऊँगी