अंधेरों को निकाला जा रहा है
मगर घर से उजाला जा रहा है
~ फ़ना निज़ामी कानपुरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *