Intejar bhi na karu, Intejar pe shayari,

तुम्हारा लौटना ना लौटना तो अलग बात है,
मैं इंतेज़ार भी ना करूं ये तो गलत बात है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *