ishq khamoshi se dhundhta hai

ishq khamoshi se dhundhta hai, Ishq Shayari

किन लफज़ों मे लिखूँ मैं अपने इंतज़ार को
बेजुबां सा इश्क खामोशी से ढूँढता है तुम्हे..