Khamoshinyan Shayari, Khamoshiyan Wahi Rahi Ta-Umra Darmiyaan

खामोशियाँ वही रही ता-उम्र दरमियाँ,
बस वक़्त के सितम और हसीन होते गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *