Deep 4 lines Shayari on Love, Main Tere Tab me Fir Behek Raha hun

खुशबू बन बिखर रहा हूँ

तेरे ख्यालो की आतिश से पिघल रहा हूँ

यू न देना कोई दोष अब मुझको

मैं तेरे ताब में फिर बहक रहा हूँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *