दुआ को हात उठाते हुए लरज़ता हूँ
कभी दुआ नहीं माँगी थी माँ के होते हुए
~ इफ़्तिख़ार आरिफ़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *