Dua nahi mangi thi maa ke hote hue

दुआ को हात उठाते हुए लरज़ता हूँ
कभी दुआ नहीं माँगी थी माँ के होते हुए
~ इफ़्तिख़ार आरिफ़