ishq aur dosti shayari

ishq aur dosti shayari

इश्क़ और दोस्ती मेरी ज़िन्दगी के दो जहाँ है

इश्क़ मेरा रूह तो दोस्ती मेरा इमां है

इश्क़ पे कर दूँ फ़िदा अपनी ज़िन्दगी

मगर दोस्ती पे तो मेरा इश्क़ भी कुर्बान है