जहाँ हमारा स्वार्थ समाप्त होता है..

वही से हमारी इंसानियत आरम्भ होती है।