Tanhai sirf insano ke naseeb me, Naseeb Shayari

कश्तियाँ भी अकेले ही तैर रही है समंदर में दोस्त,
किसने कहाँ के तनहाई सिर्फ़ इंसानों के नसीब में हैं..!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *