Poem in Hindi

Hua Savera Poem in Hindi

हुआ सवेराज़मीन पर फिर अदबसे आकाशअपने सर को झुका रहा हैकि बच्चे स्कूल जा रहे हैंनदी में स्नान करने सूरजसुनारी मलमल कीपगड़ी बाँधेसड़क किनारेखड़ा हुआ…

Read more

Gauraiya kavita | Poem in hindi

कितने अधिकार सेफुदकती है गौरैया!घर मेंआंगन मेंछज्जे-मुंडेर पर मेरा घरअपना घर समझती हैगौरैया! चहचहाती है गौरैया!खिड़की सेझांकती है गौरैया! घोंसलें बनाती हैगौरैया!दाना चूगती हैंचुगाती हैगौरैया!…

Read more