Pyar Shayari, Na Jane Kaise seekh gaya Pyar Karna

आता नही था हमें इकरार करना,

ना जाने कैसे सीख गये प्यार करना,

रुकते ना थे दो पल कभी किसी के लिए,

ना जाने कैसे सीख गये इंतेज़ार करना!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *