Akbar ilahabadi best shayari

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ,
बाज़ार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ…
~अकबर इलाहाबादी