Bewafa Shayari, Chunti Hain Mere Ashk Raaton Ki Bhikaranen

चुनती हैं मेरे अश्क रुतों की भिकारनें
‘मोहसिन’ लुटा रहा हूँ सर-ए-आम चाँदनी