Chand Shayari, Baat Wo Aadhi Raat Ki Raat Wo Pure Chand Ki

बात वो आधी रात की रात वो पूरे चाँद की
चाँद भी ऐन चैत का उस पे तिरा जमाल भी