देख के आपकी जवानी को,
आरज़ू ए शराब होती है |
रोज तौबा को भूलता हूँ मैं,
रोज नीयत ख़राब होती है ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *