घौखा वफ़ा की राह में खाये तो हे जरुर ,
हम ने कभी किसी को घौखा नही दिया ,
फ़किरी में ही गुजार ली जींदगी-ए-“एजाज”
पर हम ने कभी ज़मीर का सौदा नही किया ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *