Dushmanai bhi chalti hai ab dosti de sath

यूँ दुश्मनी भी चलती है अब दोस्ती के साथ
जैसे अँधेरा रहता है हर रौशनी के साथ
~इन्तिज़ार ग़ाज़ीपुरी