Ek aag si hai dil me

एक आग सी है दिल में
बुझा न कोई पाये
जलाती है मुझको ऐसे
जैसे परवाना जला जाये