एक आग सी है दिल में
बुझा न कोई पाये
जलाती है मुझको ऐसे
जैसे परवाना जला जाये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *