Fana Nizami kanpuri shayari in hindi

अंधेरों को निकाला जा रहा है
मगर घर से उजाला जा रहा है
~ फ़ना निज़ामी कानपुरी