Har jakhm mujhse chupaya na gya

Har jakhm mujhse chupaya na gya, Jakhm Shayari

हर ज़ख़्म मुझसे छुपाया न गया,
दर्द हुआ ऐसा की उछल पड़ा।
shayari