Intejar me neend aaye umra bhar, Ghalib shayari

आखिर ना इंतजार में नींद आए उम्र भर
आने का अहद कर गए आए जो ख़्वाब में

  • ग़ालिब