Jannat ko Dhundhna chor do

Jannat ko Dhundhna chor do, Shayari page

दूसरों की दुनियाँ को जहन्नुम बनाकर
सज़दों में जन्नत को ढूंढना छोड़ दो