Kagaj Par kalam, Bojh shayari

एक बोझ के तले बस यूँही कभी कभी,
कागज़ पर कलम घिस देते हैं