कश्ती है पुरानी मगर दरिया बदल गया;
मेरी तलाश का भी तो जरिया बदल गया,
न शकल बदली न ही बदला मेरा किरदार,
बस लोगों के देखने का नजरिया बदल गया…