Koi Manjar sada nahi rehta

Koi Manjar sada nahi rehta, Gajab Shayari

कोई मंज़र सदा नहीं रहता
हर तआल्लुक मुसाफिराना है