old love sad shayari

old love sad shayari

फ़ासले तुम और बढ़ाओ,
ऐतराज़ हमनें कब किया है
तुम भी भुला ना पाओगे मुझको
वो मस्त अंदाज़ हूँ मैं