Tu jal Rahi gair ki bahon me

Tu jal Rahi gair ki bahon me, Bewafa Shayari,

तू जल रही गैर की बाहों में लौ सी
मैं पिघल रहा खुद में ही मोम सा…….