zindagi ko naya roop chahiye, shayari

हर लम्हा ज़िंदगी को नया रूप चाहिए
इक बोझ बन गई है सँवरने के बाद भी

Har lamha zindagi ko naya roop chahiye
Ek bojh ban gai hai sawarane ke baad Bhi