Gulzar Poetry Live | उम्र बढ़ते-बढ़ते खुलती हैं किताबें – गुलजार



गुलजार ने बयां किया किताबों के साथ उनका लगाव और सुनाई अपनी मशहूर कविता.
#Gulzar #Poetry #Live #उमर #बढतबढत #खलत #ह #कतब #गलजर
Gulzar Poetry Live | उम्र बढ़ते-बढ़ते खुलती हैं किताबें – गुलजार
#Gulzar #Poetry #Live #उमर #बढतबढत #खलत #ह #कतब #गलजर
Gulzar Poetry Live | उम्र बढ़ते-बढ़ते खुलती हैं किताबें – गुलजार
Quint Hindi

Youtube