Itni jagah kahan hai dil-e-dagdar me, Dil shayari

कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें,इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दाग़दार में,उम्र-ए-दराज़ माँग कर लाये थे चार दिन,दो अरज़ू में कट गये दो…

Read more