दुनिया के जो प्यार के दिन याद आया गए,
दो बाजुओं की हार के दिन याद आ गए,
गुजरे वो जिस तरफ से फिजायें महक उठी,
सबको भरी बहार के दिन याद आ गए।