khamosh takdir ki tarah

चुभता तो बहुत कुछ है तीर की तरह..,
रहता हूँ खामोश तकदीर की तरह…